अखिल भारतीय इतिहास-संकलन योजना
Akhil Bharatiya Itihas Sankalan Yojna

प्रो॰ ठाकुर प्रसाद वर्मा


देश के लब्धप्रतिष्ठ इतिहासकार एवं पुरातत्त्ववेत्ता प्रो॰ ठाकुर प्रसाद जी वर्मा ('टी॰पी॰ वर्मा' के नाम से लोकप्रिय) डी॰ए॰वी॰ डिग्री कालेज (वाराणसी) के प्राचार्य; गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय (हरिद्वार) के प्राचीन इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्त्व-विभाग के प्राध्यापक एवं अध्यक्ष एवं काशी हिंदू विश्वविद्यालय के प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्त्व-विभाग के उपाचार्य पद से सेवानिवृत्त वरिष्ठ प्राध्यापक हैं। आपके निर्देशन में अनेक शोध-कार्य संपन्न हुए हैं। प्रो॰ वर्मा लिपिशास्त्र, अभिलेखशास्त्र एवं मुद्राशास्त्र के अंतर्राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त विशेषज्ञ हैं। आपकी दो दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हैं एवं डेढ़ सौ से अधिक शोध-पत्र अनेक प्रतिष्ठित शोध-पत्रिकाओं की शोभा बढ़ा रहे हैं।

आप विभिन्न संगठनों से प्रकाशित अनेक शोध-पत्रिकाओं के संपादन-कार्य से सम्बद्ध रहे हैं जिनमें 'जर्नल आफ़ न्यूमिस्मेटिक सोसायटी आफ़ इण्डिया'के 18 अंक सम्मिलित हैं। सन् 2008 से आप अखिल भारतीय इतिहास-संकलन योजना की अर्द्धवार्षिक शोध-पत्रिका 'इतिहास दर्पण'के प्रधान संपादक हैं। प्रो॰ वर्मा देश की अनेक संस्थाओं से सम्बद्ध हैं और कई के संस्थापक-सदस्य एवं आजीवन सदस्य भी हैं। आपकी प्रमुख कृतियाँ हैं-
1- The palaeography of Brāhmī script in north India, from c. 236 B.C. to c. 200 A.D. (1971)
2- Development of Script in Ancient Kamrupa (1976)
3- Studies in the History and Culture of Nepal (1977)
4- A Catalogue of the Greek and Indo-Greek Coins in the Department (1983)
5- A Catalogue of the Seals and Sealings in the Government Museum Mathurā (1983)
6- Post-Mauryan (1984)
7- Gupta (Northern Variety) (1984)
8- Ancient Indian Palaeography, Vol. V (1984)
9- Asokan Brahmi (1984)
10- Kushana & Satavahana (1984)
11- Kharoshthi (1984)
12- Ancient Indian Palaeography: Gupta Vakataka (1984)
13- युग-युगों में काशी (1986)
14- युगयुगीन सरयूपार : गोरखपुर-परिक्षेत्र का इतिहास (1987)
15- Modern Indian Alphabet (1988)
16- युगयुगीन ब्रज (1988)
17- श्रीराम विश्वकोश (प्रथम खण्ड) (1992)
18- श्रीराम एवं उनका युग (1993)
19- A corpus of the Lichchhavi inscriptions of Nepal (1994)
20- Development of Śārdā script: upto 13th century A.D. (1998)
21- The development of imperial Gupta Brāhmī script (1998)
22- Dating in Indian Archaeology: Problems and Perspectives (1998)
23- ब्राह्मी-लिपि का उद्भव और विकास : तीसरी शताब्दी ई॰पू॰ से गुजरात-सौराष्ट्र-क्षेत्र के परिप्रेक्ष्य में (1988)
24- श्रीरामजन्मभूमि : ऐतिहासिकता एवं पुरातात्त्विक साक्ष्य (2001)
25- अयोध्या का इतिहास एवं पुरातत्त्व : ऋग्वेद-काल से अबतक (2001)
26- मन्वन्तरों का विज्ञान (अंग्रेज़ी में भी) (2006)
27- Inscriptions of the Gāhaḍavālas and Their Times, Vol. I (2011)



प्रो. ठाकुर प्रसाद वर्मा
397-ए, गंगा-प्रदूषण-नियन्त्रण मार्ग,
भगवानपुर, वाराणसी-221 005 (उ.प्र.)
दूर.: 0542-2367381; मो.: 09450965819
ई-मेल : tpverma2003@yahoo.co.in, thakurverma@gmail.com

 


Copyright © www.abisy.org 2015
Developed By: WebGlobex Solutions